जापान में सुनामी का हाईएस्ट अलर्ट वापस:समुद्री इलाकों में रहने वालों को घर न लौटने की सलाह; अब तक दो लोगों की मौत

Date:

Share post:

यूथ इंडिया, एजेंसी। जापान में सोमवार को 7.6 तीव्रता का भूकंप आया। इसके बाद यहां सुनामी आ गई। वाजिमा शहर में करीब 4 फीट ऊंची (1.2 मीटर) लहरें उठीं। हालांकि, शाम को सरकार ने सुनामी की हाईएस्ट वॉर्निंग वापस ले ली। समुद्र के किनारे पर रहने वालों से कहा गया है कि वो फिलहाल घर न लौटें, क्योंकि ऊंची लहरों का खतरा लौट भी सकता है। सरकार जल्द ही नई एडवाइजरी जारी करेगी। मीडिया रिपोर्ट्स में दो लोगों के मारे जाने की खबर है। औपचारिक तौर पर सरकार ने इसकी जानकारी नहीं दी है।

वाजिमा शहर में एक बिल्डिंग ढह गई। इसके मलबे मे 6 लोग दबे हैं। यहां 35 हजार घरों में बिजली नहीं है। नॉर्थ कोरिया और रूस ने भी सुनामी का अलर्ट जारी किया था।

कैसे तय होता है कि ये सुनामी है या नहीं
जापान के ‘सुनामी वॉर्निंग सिस्टम’ के मुताबिक- अगर भूकंप के बाद सुनामी की एडवाइजरी या अलर्ट जारी होता है और इसके बाद समंदर में 1 मीटर ऊंची लहरें उठती हैं तो इसे सुनामी कैटेगरी में रखा जाता है। इनकी ऊंचाई बाद में 3 से 5 मीटर हो सकती है। अगर 5 मीटर तक लहरें उठती हैं तो इसे ‘मेजर सुनामी’ कैटेगरी में रखा जाता है।

42 आफ्टरशॉक्स आए
जापान की मौसम विज्ञान एजेंसी के मुताबिक भूकंप इशिकावा प्रांत के अनामिजु शहर में आया। इसका केंद्र धरती से 10 किलोमीटर नीचे था। भारतीय समय के मुताबिक दोपहर 12:40 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। कुल 42 आफ्टरशॉक्स आए हैं। सभी की तीव्रता 3.4 से 4.6 के बीच रही।

तस्वीर नोतो शहर की है। भूकंप से तबाह एक मकान के करीब से गुजरती महिला।

तस्वीर नोतो शहर की है। भूकंप से तबाह एक मकान के करीब से गुजरती महिला।

मरीजों तक नहीं पहुंच पा रहे डॉक्टर
भूकंप में घायल हुए लोगों को इलाज मिलना मुश्किल हो रहा है। इसकी वजह ये है कि भूकंप की वजह से ज्यादातर सड़कें टूट चुकी हैं और डॉक्टर्स प्रभावित जगहों पर नहीं पहुंच पा रहे हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक- जापान की एयरफोर्स के हेलिकॉप्टर्स अब डॉक्टर्स को प्रभावित इलाकों में पहुंचा रहे हैं। जरूरी सामान पहुंचाने में भी इसी वजह से दिक्कत आ रही है।

भूकंप के बाद इशिकावा प्रांत के वाजिमा शहर में सड़क पर दरारें आ गईं। कई इलाकों की सड़कें टूट भी गईं।

भूकंप के बाद इशिकावा प्रांत के वाजिमा शहर में सड़क पर दरारें आ गईं। कई इलाकों की सड़कें टूट भी गईं।

भारतीय दूतावास ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया
भूकंप के बाद सुनामी का खतरा देखते हुए इंडियन एम्बेसी ने इमरजेंसी नंबर जारी किए हैं। ये इस तरह हैं : + 81-80-3930-1715, + 81-70-1492-0049, + 81-80-3214-4734, + 81-80-6229-5382, + 81-80-3214-4722।

भूकंप की तस्वीरें…

भूकंप के बाद इशिकावा प्रांत के कनाजावा में ओनो-हियोशी श्राइन का टोरी गेट ढह गया।

भूकंप के बाद इशिकावा प्रांत के कनाजावा में ओनो-हियोशी श्राइन का टोरी गेट ढह गया।

आने वाले दिनों में खतरा बढ़ेगा
जापान की मेट्रोलॉजिकल एजेंसी ने सोमवार शाम कहा- आने वाले दिनों में देश के कुछ हिस्सों में इसी तरह का भूकंप आने की आशंका है। लिहाजा, लोगों से अपील है कि वो सतर्क रहें।

भूकंप के झटके महसूस होने के बाद लोग ऑफिस और घरों से बाहर आ गए।

भूकंप के झटके महसूस होने के बाद लोग ऑफिस और घरों से बाहर आ गए।

इशिकावा राज्य के शिका शहर में एक मकान करीब-करीब ढह गया। मकान के नीचे खड़ी एक कार दब गई।

इशिकावा राज्य के शिका शहर में एक मकान करीब-करीब ढह गया। मकान के नीचे खड़ी एक कार दब गई।

जापान के इशिकावा प्रांत के एक मेट्रो स्टेशन का डिस्प्ले बोर्ड भूकंप के तेज झटकों के कारण टूट गया।

जापान के इशिकावा प्रांत के एक मेट्रो स्टेशन का डिस्प्ले बोर्ड भूकंप के तेज झटकों के कारण टूट गया।

जापान के इशिकावा प्रांत के उचिनाडा शहर में भूकंप से सड़कों पर दरारें आ गईं। बिजली के खम्बे टूट गए।

जापान के इशिकावा प्रांत के उचिनाडा शहर में भूकंप से सड़कों पर दरारें आ गईं। बिजली के खम्बे टूट गए।

जापान में भूकंप के बाद लोग जान बचाने के लिए टेबल के नीचे बैठे नजर आए।

जापान में भूकंप के बाद लोग जान बचाने के लिए टेबल के नीचे बैठे नजर आए।

इशिकावा प्रांत के कानाजावा शहर में भारी तबाही हुई है। कई घर टूट गए।

इशिकावा प्रांत के कानाजावा शहर में भारी तबाही हुई है। कई घर टूट गए।

सोशल मीडिया पर जापान के एक मॉल का यह वीडियो वायरल हो रहा है। भूकंप के बाद शेल्फ में रखा सामान जमीन पर गिर गया।

सोशल मीडिया पर जापान के एक मॉल का यह वीडियो वायरल हो रहा है। भूकंप के बाद शेल्फ में रखा सामान जमीन पर गिर गया।

फुकुशिमा प्लांट पर पैनी नजर
जापानी मीडिया के मुताबिक फुकुशिमा न्यूक्लियर प्लांट पर पैनी नजर रखी जा रही है। दरअसल, जापान में मार्च 2011 में 9 तीव्रता वाले भूकंप के कारण जबरदस्त सुनामी आई थी। तब उठी सुनामी की लहरों ने फुकुशिमा न्यूक्लियर प्लांट को तबाह कर दिया था।

इसे पर्यावरण को नुकसान के लिहाज से बड़ी घटना माना गया था। तब समुद्र में उठी 10 मीटर ऊंची लहरों ने कई शहरों में तबाही मचाई थी। इसमें करीब 16 हजार लोगों की मौत हुई थी।

रिंग ऑफ फायर पर बसा है जापान
जापान भूकंप के लिहाजे से सेंसिटिव है। यहां भूकंप आते रहते हैं, क्योंकि ये दो टेक्टोनिक प्लेटों के जंक्शन के पास स्थित है। इशिकावा प्रान्त, जहां भूकंप आया है, महासागर के चारों ओर भूकंपीय फॉल्ट लाइनों की एक घोड़े की नाल के आकार की श्रृंखला- रिंग ऑफ फायर के करीब स्थित है।

रिंग ऑफ फायर ऐसा इलाका है जहां कॉन्टिनेंटल प्लेट्स के साथ ओशियनिक टेक्टॉनिक प्लेट्स भी मौजूद हैं। ये प्लेट्स आपस में टकराती हैं तो भूकंप आता है। इनके असर से ही सुनामी आती है और वोल्केनो भी फटते हैं।

दुनिया के 90% भूकंप इसी रिंग ऑफ फायर में आते हैं। यह क्षेत्र 40 हजार किलोमीटर में फैला है। दुनिया में जितने सक्रिय ज्वालामुखी हैं, उनमें से 75% इसी क्षेत्र में हैं। 15 देश- जापान, रूस, फिलीपींस, इंडोनेशिया, न्यूजीलैंड, अंटार्कटिका, कनाडा, अमेरिका, मैक्सिको, ग्वाटेमाला, कोस्टा रिका, पेरू, इक्वाडोर, चिली, बोलिविया रिंग ऑफ फायर की जद में हैं।

दुनिया में हर साल 20 हजार भूकंप आते हैं
हर साल दुनिया में कई भूकंप आते हैं, लेकिन इनकी तीव्रता कम होती है। नेशनल अर्थक्वेक इंफॉर्मेशन सेंटर हर साल करीब 20,000 भूकंप रिकॉर्ड करता है। इसमें से 100 भूकंप ऐसे होते हैं जिनसे नुकसान ज्यादा होता है। भूकंप कुछ सेकेंड या कुछ मिनट तक रहता है। अब तक के इतिहास में सबसे ज्यादा देर तक रहने वाला भूकंप 2004 में हिंद महासागर में आया था। यह भूकंप 10 मिनट तक रहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

राज्यसभा चुनाव में भाजपा ने अखिलेश को दी बड़ी मात

क्रॉस वोटिंग से सभी कैंडिडेट जीते, सपा के आलोक रंजन हारे यूथ इंडिया, लखनऊ। यूपी में लोकसभा चुनाव से...

CBI को सौंपी गई इनेलो नेता की हत्या की जांच:देर शाम अंतिम संस्कार; सुपारी किलिंग के शक में तिहाड़ में गैंगस्टरों से पूछताछ

यूथ इंडिया, बहादुरगढ़। हरियाणा में इंडियन नेशनल लोकदल (INLD) के प्रदेश अध्यक्ष नफे सिंह राठी की हत्या की...

पेटीएम बैंक के चेयरमैन विजय शेखर का इस्तीफा:नया बोर्ड बनाया गया, इसमें सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन श्रीनिवासन भी शामिल

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। पेटीएम के फाउंडर विजय शेखर शर्मा ने सोमवार (26 फरवरी) को पेटीएम पेमेंट्स बैंक...

गजल गायक पंकज उधास नहीं रहे:पैंक्रियाज कैंसर से 72 साल की उम्र में निधन, 2006 में पद्मश्री मिला था

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। मशहूर गजल गायक पंकज उधास का आज 72 साल की उम्र में निधन हो...