भारत छोड़ इजरायल में बसने को तैयार हुए यति नरसिंहानंद गिरी, बोले- यहूदी और हिंदू के दुश्मन एक

Date:

Share post:

यूथ इंडिया, लखनऊ: हमेशा अपने विवादित बयानों से चर्चा में रहने वाले महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरि ने इजरायल और हमास के बीच हो रहे युद्ध पर बड़ा बयान दिया है। नरसिंहानंद गिरि ने इजरायल सरकार का समर्थन करते हुए वहां बसने की अनुमति मांगी है। नरसिंहानंद ने वीडियो संदेश जारी करके कहा, वह इजरायल सरकार और वहां के धार्मिक नेताओं से अनुरोध करना चाहे हैं कि हमे इजरायल में बसने की सुविधा दें। हमारी धार्मिक आस्थाओं और मान्यताओं के साथ हमे वहां अपने 1000 शिष्यों के साथ बसने की सुविधा दी जाए। इजरायल और हमास युद्ध को लेकर नरसिंहानंद गिरि ने कहा, जिस बीमारी से वह लड़ रहे हैं, वह 1400 सालों से उस कैंसर से पीड़ित हैं। हमारा और यहूदियों का दुश्मन एक ही है।
नरसिंहानंद गिरि ने इजरायल के प्रधानमंत्री और वहां के सभी लोगों से अनुरोध करते हुए कहा, हम धार्मिक आस्थाओं पर कभी किसी का कत्ल नहीं करते है और न ही विरोध करते हैं। हम सभी धार्मिक आस्थाओं को स्वीकार करते हैं। उन्होंने आगे कहा, मोहम्मद और उसकी शैतानी किताबों को मानने वाले राक्षस हमारे साथ भी वही कर रहे हैं जो पिछले 1400 सालों से आपके साथ कर रहे हैं। नरसिंहानंद गिरि बोले-भारत अभी सनातन धर्म को न मानने वाले इन्हीं राक्षसों से लड़ने की स्थिति में नहीं है। भविष्य में इनसे लड़ने की स्थिति में आएंगे, तब तक हम आपका सहयोग करना चाहते हैं।

नरसिंहानंद ने इजरायल सरकार से सहयोग मांगते हुए कहा, मैं और मेरे शिष्णगण इजराइल में बसना चाहते हैं। हम शांति के समय में अपने कार्य करेंगे और जब कभी भी युद्ध या आपातकाल होगा, हम फ्री में बिना कोई धन लिए इजरायल सरकार से हर युद्ध को आपके साथ लड़ेंगे और आपातकाल में आपके अनुसार और देश के अनुसार जो इजरायल के हित में होगा वह करेंगे। नरसिंहानंद गिरि ने कहा, हम यह चाहते हैं कि मोहम्मद और उसकी शैतानी किताब को मानने वाले लोगों को इस धरती से निपटा दिया जाए, इसलिए हम आपको साथ देना चाहते हैं। इसके अलावा हमारी कोई शर्त नहीं है।
उन्होंने कहा कि इजरायल सरकार जैसे चाहेगी वैसे रहेंगे। आपके साथ लड़ेंगे और आपके साथ लड़ते हुए मानवता के लिए बलिदान देंगे। हमारे जो लोग लड़ाई में काम नहीं कर पाएंगे वो लोग सेवा का काम करेंगे। हम चाहते हैं कि दोनों लोग मिलकर मानवता के शत्रु को समाप्त करें। उन्होंने कहा, 16 अक्टूबर को वह दिल्ली स्थित इजरायल दूतावास पहुंचकर अनुरोध पत्र भी सौंपेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

रामदेव-बालकृष्ण ने विज्ञापन केस में दूसरा माफीनामा छपवाया:कोर्ट ने कहा था- साइज ऐसा न हो कि माइक्रोस्कोप से पढ़ना पड़े

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। पतंजलि, बाबा रामदेव और बालकृष्ण ने बुधवार (24 अप्रैल) को अखबारों में एक और...

फर्रुखाबाद में घर से लापता आढ़ती का मिला शव:सिर पर लगा था हेलमेट, बाइक मिली गायब, मंडी में दुकान पर जाने के लिए निकले...

यूथ इंडिया, फर्रुखाबाद। फर्रुखाबाद में एक आढ़ती सोमवार की शाम को घर से निकला था। देर रात तक...

रॉबर्ट वाड्रा अबकी बार…अमेठी में कांग्रेस दफ्तर के बाहर लगे पोस्टर; राहुल गांधी क्या करेंगे

अमेठी, यूथ इंडिया। कांग्रेस ने अब तक अमेठी लोकसभा सीट पर अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान नहीं...

DRDO ने बनाई सबसे हल्की बुलेट प्रूफ जैकेट:स्नाइपर की 6 गोलियां नहीं भेद सकीं; आर्मी चीफ बोले- देश युद्ध में जाने से नहीं हिचकिचाएंगे

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने देश की सबसे हल्की बुलेट प्रूफ जैकेट...