चुनाव आयोग ने 6 राज्यों के गृह सचिव हटाए:पश्चिम बंगाल के DGP को भी हटाया, विवेक सहाय को कमान; एक से ज्यादा पदों पर थे

Date:

Share post:

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव की घोषणा के दो दिन बाद सोमवार को पश्चिम बंगाल के DGP समेत 7 राज्यों के गृह सचिव को हटा दिया। 6 राज्यों के गृह सचिवों में गुजरात, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के अफसरों का नाम शामिल है। विवेक सहाय को पश्चिम बंगाल का नया DGP बनाया गया है।

आयोग ने बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) कमिश्नर इकबाल सिंह चहल और मिजोरम के एक IAS अफसर को भी हटाने को कहा है। महाराष्ट्र सरकार ने एक दिन पहले चुनाव आयोग से BMC कमिश्नर को तबादले से छूट देने की अपील की थी। हालांकि, ECI ने ये अपील खारिज कर दी।

मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार की अध्यक्षता में चुनाव आयुक्त ज्ञानेश कुमार और सुखबीर सिंह संधू की सोमवार दोपहर में बैठक के बाद यह फैसला लिया गया। जिन अधिकारियों को हटाया गया है, उनके पास संबंधित राज्यों में मुख्यमंत्री कार्यालय में दोहरे प्रभार थे।

ममता ने जिस अधिकारी के लिए 70 घंटे धरना दिया था, चुनाव से ठीक पहले पद से हटाया गया
2016 विधानसभा चुनाव से ठीक पहले विपक्ष ने डीजीपी राजीव कुमार पर फोन टैपिंग का आरोप लगाया था। उस वक्त भी चुनाव आयोग ने पद से हटाया था। फरवरी 2019 में लोकसभा चुनाव से पहले सारदा चिट फंड घोटाले के आरोप में सीबीआई ने कुमार के घर बिना सर्च वारंट रेड डाली थी। जिस पर ममता ने 70 घंटे धरना दिया था।

लोकसभा चुनाव 2024 से ठीक पहले एक बार फिर राजीव कुमार अपने पद से हटाए गए। इस बार शाहजहां शेख की हाई कोर्ट के दबाव के बाद देरी से हुई गिरफ्तारी और सीबीआई को उसे सौंपने में अड़ियल रवैया वजह बना है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और डीजीपी राजीव कुमार। फाइल फोटो
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और डीजीपी राजीव कुमार। फाइल फोटो

पहले थे कोलकाता के सीपी
यूपी कैडर के 1989 बैच के आईपीएस अधिकारी राजीव कुमार पश्चिम बंगाल के डीजीपी बनने से पहले कोलकाता के पुलिस आयुक्त थे। वे पूर्व में इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एंड इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग में प्रिंसिपल सेक्रेटरी भी काम रह चुके हैं।

यूपी के रहने वाले हैं राजीव कुमार
राजीव कुमार ने आईआईटी रुड़की से इंजीनियरिंग की डिग्री ली है। वे प. बंगाल की स्पेशल टास्क फोर्स और CID में भी रह चुके हैं। राजीव कुमार उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं।

आईपीएस राजीव कुमार पूर्व में पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य के भी काफी पसंदीदा अधिकारियों में शामिल रह चुके हैं। पश्चिम बंगाल में ऐसी चर्चा होती आई वे अपनी जांच के तौर तरीकों और इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस के महारत के चलते मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नजरों में आए थे।

TMC ने कहा- भाजपा ने केंद्रीय एजेंसियों का कंट्रोल अपने हाथ में लिया
टीएमसी नेता कुणाल घोष ने DGP को हटाए जाने की कार्रवाई को गलत बताया। उन्होंने कहा कि हमने देखा है कि BJP चुनाव आयोग समेत कई संगठनों को हथियाने की पूरी कोशिश कर रही है।
उन्होंने केंद्रीय एजेंसियों का कंट्रोल अपने हाथ में ले लिया है। लोकसभा चुनाव की घोषणा के बाद आज जो हुआ वह भाजपा का आईना है। BJP चुनाव आयोग के कामकाज को हथियाने और उन पर नजर रखने की पूरी कोशिश कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

रामदेव-बालकृष्ण ने विज्ञापन केस में दूसरा माफीनामा छपवाया:कोर्ट ने कहा था- साइज ऐसा न हो कि माइक्रोस्कोप से पढ़ना पड़े

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। पतंजलि, बाबा रामदेव और बालकृष्ण ने बुधवार (24 अप्रैल) को अखबारों में एक और...

फर्रुखाबाद में घर से लापता आढ़ती का मिला शव:सिर पर लगा था हेलमेट, बाइक मिली गायब, मंडी में दुकान पर जाने के लिए निकले...

यूथ इंडिया, फर्रुखाबाद। फर्रुखाबाद में एक आढ़ती सोमवार की शाम को घर से निकला था। देर रात तक...

रॉबर्ट वाड्रा अबकी बार…अमेठी में कांग्रेस दफ्तर के बाहर लगे पोस्टर; राहुल गांधी क्या करेंगे

अमेठी, यूथ इंडिया। कांग्रेस ने अब तक अमेठी लोकसभा सीट पर अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान नहीं...

DRDO ने बनाई सबसे हल्की बुलेट प्रूफ जैकेट:स्नाइपर की 6 गोलियां नहीं भेद सकीं; आर्मी चीफ बोले- देश युद्ध में जाने से नहीं हिचकिचाएंगे

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने देश की सबसे हल्की बुलेट प्रूफ जैकेट...