अखिलेश के ‘घर’ में गरजे सीएम योगी:कहा-पहले लोग इटावा-सैफई के नाम से डरते थे, सरकारों ने नारियल फोड़े, लेकिन बजट नहीं दिया

Date:

Share post:

यूथ इंडिया, इटावा। सीएम योगी आदित्यनाथ बुधवार को मुलायम-अखिलेश के गढ़ सैफई पहुंचे। यहां उन्होंने सैफई आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय में 500 बेड के सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल का इनॉगरेशन किया। इसके बाद ऑडिटोरियम में सभा को संबोधित किया।

सीएम योगी ने सैफई में मुलायम को याद किया। कहा कि मुलायम सिंह ने सैफई में आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय की स्थापना की। इसलिए उन्हें श्रद्धांजलि देता हूं। अगर यह नहीं बनता तो पूरे भारत के यहां दर्शन नहीं हो पाते। पूरे देश से छात्र यहां मेडिकल की पढ़ाई करने के लिए आए हैं।

सीएम ने कहा- पहले लोग इटावा और सैफई के नाम से डरते थे। लेकिन अब कोई डर नहीं है। योगी ने 1996 से जुड़ा एक किस्सा भी सुनाया। कहा कि वह जयपुर से आगरा रात में पहुंचे थे। वहां से कानपुर जाने के लिए पुलिस वालों ने मना कर दिया कि रात में न जाएं, इटावा पड़ेगा। अब ऐसा डर नहीं है। फिर मुझे रात में आगरा में रुकना पड़ा। अब आगरा के विधायक यहां के विधायक हैं।

सीएम योगी ने नए हॉस्पिटल में भर्ती किए गए स्वास्थ्य कर्मियों को जॉइनिंग लेटर भी सौंपा।
सीएम योगी ने नए हॉस्पिटल में भर्ती किए गए स्वास्थ्य कर्मियों को जॉइनिंग लेटर भी सौंपा।

अखिलेश यादव का नाम लिए बिना उन्होंने सपा सरकार पर निशाना साधा। कहा कि पहले की सरकारों ने नारियल तो फोड़े लेकिन काम शुरू करने के लिए बजट नहीं दिया। मेडिकल कॉलेज को टोकन मनी के नाम पर एक लाख रुपए दिए जाते थे। मैं कोरोना काल में यहां आया था, तब मैंने यहां हाल देखा।

सीएम ने कहा कि कुछ लोगों की कानाफूसी करने की आदत रही है। कहा अब अपना और पराया नहीं होता। अब सबके लिए काम होता है। दरअसल, अखिलेश ने योगी के सैफई पहुंचने से पहले X पर पोस्ट करके निशाना साधा था। उन्होंने लिखा था-भाजपा को दूसरों के शुरू किए गए काम का फीता काटने की जल्दी है।

सीएम ने कहा कि कुछ लोगों की कानाफूसी करने की आदत रही है। कहा अब अपना और पराया नहीं होता।
सीएम ने कहा कि कुछ लोगों की कानाफूसी करने की आदत रही है। कहा अब अपना और पराया नहीं होता।

ये मेरा, ये तेरा…यह सभ्य समाज को कलंकित करता है
सीएम ने कहा कि यूपी में हमारे पास 7 मेडिकल कॉलेज थे। आज 45 मेडिकल कॉलेज यूपी में बन चुके हैं, 14 जो बचे हैं उन पर काम चल रहा है। उनको विकसित किया गया। ये मेरा है, ये तेरा है। यह सभ्य समाज को कलंकित करता है। पीएम मोदी ने पहले ही नारा दिया है ‘सबका साथ सबका विकास’। फिर इस तरीके के बयान सभ्य समाज को कलंकित करते हैं।

सीएम योगी ने सैफई आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय में 500 बेड के सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल का इनॉगरेशन किया।
सीएम योगी ने सैफई आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय में 500 बेड के सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल का इनॉगरेशन किया।

उन्होंने कहा कि सरकार के पास पैसे की कोई कमी नहीं है। जिन्हें भी जरूरत होगी हम मदद करेंगे। एडवांस लाइफ सपोर्ट एंबलेंस हर जिले को दी गई है। 108 के रिस्पांस टाइम को कम किया जा रहा है। हर जिले में फ्री डायलिसिस सुविधा दी गई।

सैफई से पहले सीएम योगी का आगरा में कार्यक्रम रहा है। वहां उन्होंने मेट्रो का इनॉगरेशन किया। सीएम योगी दूसरी बार सैफई पहुंचे। इससे पहले वह कोविड काल में 22 मई 2021 को सैफई मेडिकल कॉलेज पहुंचे थे। तब योगी ने सैफई के गींजा गांव का भी दौरा किया था।

अखिलेश ने कहा-आधे-अधूरे हॉस्पिटल का उद्घाटन करने लोग लखनऊ से आ रहे

अखिलेश यादव ने हॉस्पिटल के अंदर का यह वीडियो शेयर किया। इसमें एक कुत्ता हॉस्पिटल के अंदर अंदर आ रहा है।
अखिलेश यादव ने हॉस्पिटल के अंदर का यह वीडियो शेयर किया। इसमें एक कुत्ता हॉस्पिटल के अंदर अंदर आ रहा है।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने सीएम के सैफई दौरे को लेकर X पर पोस्ट लिखी। उन्होंने एक वीडियो शेयर करके लिखा-ये है सपा के काल में शुरू हुआ, सैफई का ‘500 बेड सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल’ जो भाजपा के पिछले 7 सालों के नकारात्मक राज में पूरी तरह फिनिश होने, मशीनें लगने, विभागों के बनने, डॉक्टरों के एपांइटमेंट होने के इंतजार में आज भी है।

सुना है इस आधे-अधूरे हॉस्पिटल का उद्घाटन करने लोग लखनऊ से आ रहे हैं। आशा है शासन-प्रशासन मिलकर कम-से-कम इतना इंतजाम तो करेगा ही कि ये परिसर मनुष्य के इलाज करने लायक स्थान दिखाई दे क्योंकि अभी तो ये ‘श्वान स्वतंत्र विचरण स्थली’ अधिक लग रहा है।

भाजपा को दूसरों के शुरू किए गए काम का फीता काटने की जल्दी है, जनता को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की नहीं। निंदनीय!

यह इटावा के सफाई मेडिकल आयुर्विज्ञान में सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल की तस्वीर है।
यह इटावा के सफाई मेडिकल आयुर्विज्ञान में सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल की तस्वीर है।

सपा सरकार में हुआ था सुपर स्पेशलिटी अस्पताल बनाने का फैसला
सपा सरकार में आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय के तहत साल 2014 में 500 बेड के सुपर स्पेशलिटी अस्पताल बनाने का फैसला लिया गया था। उस समय इसकी लागत 333.56 करोड़ थी, जो 2016 में बढ़कर 463.28 करोड़ रुपए हो गई। साल 2018 में इस प्रोजेक्ट की लागत 537.26 करोड़ रुपए बढ़कर हो गई।

यह काफी अधिक थी। बाद में इसकी लागत को कम करने के लिए 25 मार्च 2019 को शासन स्तर पर एक समिति का गठन किया गया। समिति की रिपोर्ट के आधार पर प्रोजेक्ट का फिर परीक्षण किया। इसके बाद परियोजना की लागत घटकर 489.88 करोड़ रह गई। इसके बाद 2021 फिर अप्रैल 2023 और मई 2023 में बजट जारी किया गया।

दरअसल, सैफई मुलायम सिंह और अखिलेश का गांव है। सपा सरकार में सैफई में बड़े-बड़े प्रोजेक्ट पर काम हुआ था। यहां आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय शुरू हुआ। इटावा में लायन सफारी की शुरुआत हुई। यही नहीं, सपा सरकार में ही सैफई महोत्सव हुआ था। इसमें बॉलीवुड के कलाकार पहुंचते थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

रामदेव-बालकृष्ण ने विज्ञापन केस में दूसरा माफीनामा छपवाया:कोर्ट ने कहा था- साइज ऐसा न हो कि माइक्रोस्कोप से पढ़ना पड़े

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। पतंजलि, बाबा रामदेव और बालकृष्ण ने बुधवार (24 अप्रैल) को अखबारों में एक और...

फर्रुखाबाद में घर से लापता आढ़ती का मिला शव:सिर पर लगा था हेलमेट, बाइक मिली गायब, मंडी में दुकान पर जाने के लिए निकले...

यूथ इंडिया, फर्रुखाबाद। फर्रुखाबाद में एक आढ़ती सोमवार की शाम को घर से निकला था। देर रात तक...

रॉबर्ट वाड्रा अबकी बार…अमेठी में कांग्रेस दफ्तर के बाहर लगे पोस्टर; राहुल गांधी क्या करेंगे

अमेठी, यूथ इंडिया। कांग्रेस ने अब तक अमेठी लोकसभा सीट पर अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान नहीं...

DRDO ने बनाई सबसे हल्की बुलेट प्रूफ जैकेट:स्नाइपर की 6 गोलियां नहीं भेद सकीं; आर्मी चीफ बोले- देश युद्ध में जाने से नहीं हिचकिचाएंगे

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने देश की सबसे हल्की बुलेट प्रूफ जैकेट...