राम मंदिर समारोह से दूरी पर कांग्रेस में ही उठे सवाल, वरिष्ठ नेता बोले- ऐसे फैसलों से रहना चाहिए दूर

Date:

Share post:

यूथ इंडिया, अहमदाबाद। 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कांग्रेस के सीनियर नेताओं को भी निमंत्रण मिला था। हालांकि, पार्टी ने राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का न्योता ठुकरा दिया है। आलाकमान के इस फैसले के बाद पार्टी के नेता विरोध कर रहे हैं. दरअसल, गुजरात के पोरबंदर से कांग्रेस विधायक अर्जुन मोढवाडिया ने विरोध किया है। साथ ही उन्होंने आलाकमान को नसीहत दी है कि कांग्रेस को ऐसे फैसले नहीं लेने चाहिए। अपने एक्स प्लेटफॉर्म पर अर्जुन मोढवाडिया ने लिखा, ‘भगवान श्री राम आराध्य देव हैं। यह देशवासियों की आस्था और विश्वास का विषय है। कांग्रेस को ऐसे राजनीतिक निर्णय लेने से दूर रहना चाहिए था।

बता दें कि कांग्रेस ने बुधवार को घोषणा की कि खरगे, सोनिया और चौधरी ने राम मंदिर में राम लला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के निमंत्रण को ‘सम्मानपूर्वक अस्वीकार’ कर दिया है। साथ ही पार्टी ने आरोप लगाया कि भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने ‘चुनावी लाभ’ के लिए इसे ‘राजनीतिक परियोजना’ बना दिया है। कांग्रेस संचार विभाग के प्रभारी जयराम रमेश ने एक बयान में कहा, ‘कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, संसदीय दल की नेता सोनिया गांधी और लोकसभा में पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी को अयोध्या में राम मंदिर उद्घाटन का निमंत्रण मिला। भगवान राम की पूजा-अर्चना करोड़ों भारतीय करते हैं। धर्म मनुष्य का व्यक्तिगत विषय होता आया है लेकिन बीजेपी और आरएसएस ने वर्षों से अयोध्या में राम मंदिर को एक राजनीतिक परियोजना बना दिया है और एक अर्द्धनिर्मित मंदिर का उद्घाटन केवल चुनावी लाभ उठाने के लिए ही किया जा रहा है।’

वहीं, बीजेपी ने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, पार्टी नेता सोनिया गांधी और अधीर रंजन चौधरी द्वारा अयोध्या स्थित राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने का निमंत्रण ठुकराए जाने पर बुधवार को विपक्षी दल की आलोचना की और कहा कि ”उनका दिमाग ठीक उसी तरह खराब हो गया है जैसा कि त्रेता युग में रावण का हो गया था”। इसपर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता नलिन कोहली ने कहा, ‘कांग्रेस आधिकारिक तौर पर कह रही है कि उसके वरिष्ठ नेता 22 जनवरी को अयोध्या नहीं जाएंगे। इसमें कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए। क्योंकि पिछले कुछ दशकों में उसने वास्तव में ऐसा कोई कदम नहीं उठाया ताकि अयोध्या में मंदिर बने।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

राज्यसभा चुनाव में भाजपा ने अखिलेश को दी बड़ी मात

क्रॉस वोटिंग से सभी कैंडिडेट जीते, सपा के आलोक रंजन हारे यूथ इंडिया, लखनऊ। यूपी में लोकसभा चुनाव से...

CBI को सौंपी गई इनेलो नेता की हत्या की जांच:देर शाम अंतिम संस्कार; सुपारी किलिंग के शक में तिहाड़ में गैंगस्टरों से पूछताछ

यूथ इंडिया, बहादुरगढ़। हरियाणा में इंडियन नेशनल लोकदल (INLD) के प्रदेश अध्यक्ष नफे सिंह राठी की हत्या की...

पेटीएम बैंक के चेयरमैन विजय शेखर का इस्तीफा:नया बोर्ड बनाया गया, इसमें सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन श्रीनिवासन भी शामिल

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। पेटीएम के फाउंडर विजय शेखर शर्मा ने सोमवार (26 फरवरी) को पेटीएम पेमेंट्स बैंक...

गजल गायक पंकज उधास नहीं रहे:पैंक्रियाज कैंसर से 72 साल की उम्र में निधन, 2006 में पद्मश्री मिला था

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। मशहूर गजल गायक पंकज उधास का आज 72 साल की उम्र में निधन हो...