यूपी में तैयार होगा शिक्षा, स्वास्थ्य और आर्थिक स्थिति का इंडेक्स, सीएम योगी का ऐलान

Date:

Share post:

सीएम योगी ने सोमवार को यूपी को एक ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के लिए जारी प्रयासों और परिणामों की समीक्षा की। योगी ने निर्देश दिया कि प्रदेश में शिक्षा, स्वास्थ्यका इंडेक्स तैयार किया जाए।

यूथ इंडिया, लखनऊ। यूपी में अब शिक्षा, स्वास्थ्य, परिवारों की आर्थिक स्थिति और इंडस्ट्री का इंडेक्स तैयार किया जाएगा। सीएम योगी ने इसके लिए सोमवार को निर्देश दिए। कहा कि इससे किस जनपद की क्या स्थिति है, कहां किस प्रकार की आवश्यकता है, इस इंडेक्स से पता लग सकेगा। सीएम योगी  ने सोमवार को ‘एक ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था’ के लिए जारी प्रयासों और परिणामों की समीक्षा की। कहा कि रिजल्ट के लिए आंकड़ों का संग्रहण शुद्धता के साथ होना आवश्यक है। इसके लिए कर्मचारियों और अधिकारियों को ट्रेनिंग देने की बात भी कही। मुख्यमंत्री ने मांगा फार्मास्युटिकल रिसर्च एंड इनोवेशन इंस्टीच्यूट का प्रस्ताव भी मांगा। यह लखनऊ के आस-पास बनेगा। योगी ने कहा कि हमारे पास पोटेंशियल है, अनुकूल अवसर हैं। इसका पूरा लाभ उठाना होगा। आर्थिक बेहतरी के लिए लक्ष्य तैयार कर नियोजन विभाग के साथ सभी विभाग मासिक समीक्षा बैठक करें।

बैठक में नियोजन विभाग के प्रमुख सचिव और फाइनेंस सेक्टर की कंसल्टिंग कंपनी डेलॉयट के प्रतिनिधियों ने विस्तार से प्रदेश के आर्थिक परिवेश की वर्तमान स्थिति और संभावित भावी परिणाम, उद्योग जगत की अपेक्षाओं आदि के।संबंध में सेक्टरवार विस्तार से जानकारी दी। सीएम योगी ने कहा कि पिछले 6 वर्षों के नियोजित प्रयासों से उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था आज सर्वश्रेष्ठ स्थिति में है। 2021-22 में प्रदेश की कुल जीडीपी 16.45 लाख करोड़ थी जो आज 2022-23 में 22.58 लाख करोड़ से अधिक हो गई है। राष्ट्रीय आय में उत्तर प्रदेश 9.2% का योगदान कर रहा है। उत्तर प्रदेश आज देश की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में देश के विकास का ग्रोथ इंजन बन रहा है। इसके साथ ही कई निर्देश दिए।

सीएम योगी ने यह भी दिए निर्देश
-प्रदेश की अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर के राष्ट्रीय मानकों का आंकलन करें इसमें भी हमें अपने प्रयासों के अच्छे परिणाम मिले हैं। 2021-22 में प्रचलित भावों पर उत्तर प्रदेश की वृद्धि दर 20.1% रही, जबकि देश की विकास दर 18.4% रही। जबकि स्थायी भाव पर राष्ट्रीय वृद्धि दर 9.1% रही, जबकि प्रदेश में 9.8% की वृद्धि दर दर्ज की गई। इसी प्रकार, 2022-23 में स्थायी भाव पर राष्ट्रीय वृद्धि दर 7.2% रही, जबकि प्रदेश में 9.8% की वृद्धि दर दर्ज की गई और प्रचलित भाव पर 14.3% वृद्धि दर रही।

-वर्तमान स्थिति में 2023-24 में प्रदेश की जीडीपी 25.55 लाख करोड़ से अधिक होने के अनुमान हैं, वर्ष 2027 तक वन ट्रिलियन डॉलर का लक्ष्य पूरा करने के लिए सभी विभागों को अपने प्रयास तेज करने होंगे। अपने कार्यों की और बेहतर प्लानिंग करनी होंगी। हमारी नीयत साफ है, लक्ष्य स्पष्ट है। सभी को मिलकर सही नीति और नियोजित क्रियान्वयन के लिए प्रयास करना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

प्रदीप मिश्रा बोले-प्रमाण चाहिए तो कुबरेश्वर धाम आ जाएं:राधा रानी पर प्रवचन को लेकर विवाद; संत प्रेमानंद ने कहा था- तुम नर्क में जाओगे

यूथ इंडिया, खंडवा। राधा रानी प्रसंग पर कथावाचक पं. प्रदीप मिश्रा (सीहोर वाले) के प्रवचन पर विवाद छिड़...

RSS चीफ भागवत बोले- काम करें, अहंकार न पालें:चुनाव में मुकाबला जरूरी, लेकिन यह झूठ पर आधारित न हो

नागपुर, यूथ इंडिया एजेंसी। RSS चीफ मोहन भागवत सोमवार 10 जून को नागपुर में संघ के कार्यकर्ता विकास...

सिपाही को कुचलने वालों को पुलिस ने दौड़ाकर मारी गोली:अस्पताल में चल रहा आरोपियों का इलाज; अवैध खनन रोकने गए सिपाही पर चढ़ा दी...

यूथ इंडिया, फर्रुखाबाद/लखनऊ। फर्रुखाबाद में सिपाही की ट्रैक्टर से कुचल कर हत्या करने वालों को पुलिस ने दौड़ाकर...