नए आपराधिक कानूनों के खिलाफ SC में याचिका दाखिल:कहा- कानून पहले से भी ज्यादा सख्त, बिल तब पास हुए जब कई सांसद निलंबित थे

Date:

Share post:

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। तीन नए आपराधिक कानूनों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई है। याचिकाकर्ता ने कोर्ट से तीनों कानूनों के क्रियान्वयन पर रोक लगाने और SC के एक रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में कमेटी बनाकर कानूनों का रिव्यू कराने की मांग की है।

यह याचिका सुप्रीम कोर्ट के वकील विशाल तिवारी ने दाखिल की है। उनका दावा है कि इन कानूनों में कई खामियां हैं। साथ ही तीनों कानून संसद में उस वक्त पास हुए, जब ज्यादातर सांसदों को निलंबित कर दिया गया था।

याचिका में कहा गया है – अगर ब्रिटिश कानूनों को कठोर माना जाता है तो नए कानून पहले की तुलना में कहीं ज्यादा सख्त हैं। आप किसी व्यक्ति को 15 दिनों तक पुलिस हिरासत में रख सकते हैं। पुलिस हिरासत में रखने की अवधि 90 और उससे अधिक दिनों तक बढ़ाना चौकाने वाला प्रावधान है।

लोकसभा में तीनों क्रिमिनल लॉ बिल- भारतीय न्याय संहिता, भारतीय न्याय सुरक्षा संहिता और भारतीय साक्ष्य बिल 20 दिसंबर को पास हुए थे। 21 दिसंबर को ये तीनों बिल लोकसभा से पास हो गए। 25 दिसंबर को इन्हें राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू ने मंजूरी दी थी।

किसी भी मामले में 3 साल में न्याय दिलाने का उद्देश्य
बिलों पर चर्चा का जवाब देते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा- जो लोग सदन के बाहर पूछते हैं कि इस कानून से क्या होगा? मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि इसके लागू होने के बाद तारीख पर तारीख का जमाना नहीं रहेगा। किसी भी मामले में 3 साल में न्याय दिलाने का उद्देश्य है।

जो कहते हैं कि नए कानूनों की जरूरत क्या है, उनको स्वराज का मतलब नहीं पता, इसका मतलब स्व शासन नहीं है। इसका मतलब स्व धर्म, भाषा, संस्कृति को आगे बढ़ाना है। गांधी जी ने शासन परिवर्तन की लड़ाई नहीं लड़ी, उन्होंने स्वराज की लड़ाई लड़ी। आप 60 साल सत्ता में बैठे रहे, लेकिन स्व को लगाने का काम नहीं किया, ये काम मोदी जी ने किया।

सशस्त्र विद्रोह करने और देश की संपत्ति को नुकसान पहुंचाने पर जेल
अमित शाह ने कहा कि अंग्रेजों का बनाया राजद्रोह कानून, जिसके चलते तिलक, गांधी, पटेल समेत देश के कई सेनानी कई बार 6-6 साल जेल में रहे। वह कानून अब तक चलता रहा।

मैंने राजद्रोह की जगह उसे देशद्रोह कर दिया है, क्योंकि अब देश आजाद हो चुका है, लोकतांत्रिक देश में सरकार की आलोचना कोई भी कर सकता है। अगर कोई देश की सुरक्षा, संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का काम करेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

अगर कोई सशस्त्र विरोध करता है, बम धमाके करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी, उसे आजाद रहने का हक नहीं, उसे जेल जाना ही पड़ेगा। कुछ लोग इसे अपनी समझ के कपड़े पहनाने की कोशिश करेंगे, लेकिन मैंने जो कहा उसे अच्छी तरह समझ लीजिए। देश का विरोध करने वाले को जेल जाना होगा।

आरोपी की गैरमौजूदगी में भी ट्रायल होगा
देश में कई केस लटके हुए हैं, बॉम्बे ब्लास्ट जैसे केसों के आरोपी पाकिस्तान जैसे देशों में छिपे हैं। अब उनके यहां आने की जरूरत नहीं है। अगर वे 90 दिनों के भीतर कोर्ट के सामने पेश नहीं होते हैं तो उनकी गैरमौजूदगी में ट्रायल होगा।

IPC में 511 धाराएं हैं, अब 356 बचेंगी

  • कई धाराएं और प्रावधान बदल जाएंगे। IPC में 511 धाराएं हैं, अब 356 बचेंगी। 175 धाराएं बदलेंगी। 8 नई जोड़ी जाएंगी, 22 धाराएं खत्म होंगी।
  • इसी तरह CrPC में 533 धाराएं बचेंगी। 160 धाराएं बदलेंगी, 9 नई जुड़ेंगी, 9 खत्म होंगी। पूछताछ से ट्रायल तक वीडियो कॉन्फ्रेंस से करने का प्रावधान होगा, जो पहले नहीं था।
  • फैसलों में तेजी आएगी। देश में 5 करोड़ केस पेंडिंग हैं। इनमें से 4.44 करोड़ केस ट्रायल कोर्ट में हैं।
  • इसी तरह जिला अदालतों में जजों के 25,042 पदों में से 5,850 पद खाली हैं।

भारतीय न्याय संहिता में 20 नए अपराध जोड़े गए..trong>..strong>..

  • भारतीय न्याय संहिता (BNS) में 20 नए अपराध जोड़े गए हैं।
  • ऑर्गनाइज्ड क्राइम, हिट एंड रन, मॉब लिंचिंग पर सजा का प्रावधान।
  • डॉक्यूमेंट में इलेक्ट्रॉनिक और डिजिटल रिकॉर्ड शामिल हैं।
  • IPC में मौजूद 19 प्रावधानों को हटा दिया गया है
  • 33 अपराधों में कारावास की सजा बढ़ा दी गई है।
  • 83 अपराधों में जुर्माने की सजा बढ़ा दी गई है।
  • छह अपराधों में सामुदायिक सेवा की सजा का प्रावधान किया गया है।

लोकसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित
लोकसभा गुरुवार 21 दिसंबर को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गई। संसद के शीतकालीन सत्र के लिए 22 दिसंबर तक का वक्त तय किया गया था। लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने कहा कि सदन की कार्यवाही 61 घंटे 50 मिनट चली। वर्क प्रोडक्टिविटी 74% रही। चर्चा के बाद 18 सरकारी विधेयक पास हुए। शून्यकाल के दौरान 182 मामले उठाए गए।

संसद से 146 सांसद सस्पेंड हुए
लोकसभा से गुरुवार (21 दिसंबर) को तीन और सांसदों को सस्पेंड कर दिया गया। कांग्रेस सांसद डी के सुरेश, नकुल नाथ और दीपक बैज को निलंबित किया गया। इन्हें मिलाकर संसद से कुल 146 सांसद अब तक सस्पेंड किए जा चुके हैं। इनमें 112 लोकसभा और 34 राज्यसभा के हैं।

ये बिल पास हुए
राज्यसभा में गुरुवार को टेलीकम्युनिकेशन बिल 2023 पास हो गया। इस बिल को लोकसभा में 20 दिसंबर को पास किया गया था। अब इसे राष्ट्रपति के पास मंजूरी के लिए भेज जाएगा। राष्ट्रपति से मंजूरी मिलने के बाद यह बिल कानून बन जाएगा। इस बिल में फर्जी सिम लेने पर 3 साल जेल और 50 लाख तक के जुर्माने का प्रावधान किया गया है।

लोकसभा ने गुरुवार को ही मुख्य चुनाव आयुक्त (CEC) और चुनाव आयुक्तों (ECs) की नियुक्ति, सेवा शर्तों को विनियमित करने वाले बिल को मंजूरी दे दी। राज्यसभा से यह बिल 12 दिसंबर को पास हुआ था। इसे चुनाव आयोग (चुनाव आयुक्तों की सेवा की शर्तें और कामकाज का संचालन) अधिनियम, 1991 की जगह लाया गया है।

विपक्ष ने पुरानी संसद से विजय चौक तक पैदल मार्च निकाला

सांसदों के सस्पेंशन के खिलाफ विपक्ष के सांसदों ने गुरुवार को पैदल मार्च निकाला। वहीं BJP ने उपराष्ट्रपति धनखड़ की मिमिक्री करने को लेकर जंतर-मंतर पर TMC सांसद कल्याण बनर्जी और कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के खिलाफ प्रदर्शन किया।

सांसदों के सस्पेंशन के खिलाफ विपक्ष के सांसदों ने गुरुवार को पैदल मार्च निकाला। वहीं BJP ने उपराष्ट्रपति धनखड़ की मिमिक्री करने को लेकर जंतर-मंतर पर TMC सांसद कल्याण बनर्जी और कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के खिलाफ प्रदर्शन किया।

21 दिसंबर को सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले विपक्ष के सांसदों ने पुरानी संसद से विजय चौक तक पैदल मार्च निकाला। इस दौरान खड़गे ने कहा कि सरकार संसद सुरक्षा चूक पर जवाब दे। PM नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह संसद में आकर इस मामले पर बयान दें।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि संसद से विपक्ष के सांसदों का निलंबन ठीक नहीं है। इस बीच, लोकसभा और राज्यसभा के अंदर भी हंगामा हुआ। गुरुवार को भी कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष का हंगामा देखने को मिला। प्रश्नकाल में ही विपक्ष के कुछ सांसद नारेबाजी करते दिखे।

जंतर-मंतर पर शुक्रवार को प्रदर्शन करेंगी विपक्षी पार्टियां
I.N.D.I.A के सांसदों को निलंबित किए जाने के खिलाफ कांग्रेस ने 22 दिसंबर को सुबह 11 बजे जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने का फैसला किया है। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी संबोधित करेंगे।

किस-किस तारीख को कितने सांसद निलंबित हुए

तारीखलोकसभाराज्यसभा
14 दिसंबर131
18 दिसंबर4533
19 दिसंबर49कोई नहीं
20 दिसंबर2कोई नहीं
21 दिसंबर3कोई नहीं
कुल11234

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

केदारनाथ में हेलिकॉप्टर की इमरजेंसी लैंडिंग:उतरने की कोशिश में 8 बार लहराया, टेल जमीन से टकराई; 7 लोगों की जान बची

यूथ इंडिया, रुद्रप्रयाग। केदारनाथ धाम में शुक्रवार सुबह हेलिकॉप्टर की इमरजेंसी लैंडिंग कराई गई है। इसमें सवार पायलट...

पुणे एक्सीडेंट केस: फडणवीस ​​​​​​​बोले- कोर्ट का फैसला चौंकाने वाला:जुवेनाइल बोर्ड ने नरम रुख अपनाया; आरोपी नाबालिग जमानत पर, बिल्डर पिता सहित 5 गिरफ्तार

यूथ इंडिया, पुणे। महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने पुणे के पोर्श कार एक्सीडेंट मामले पर कोर्ट...

फर्रुखाबाद: अलीगंज के बूथ संख्या 343 पर 25-मई को होगा पुर्नमतदान:युवक ने 8 वोट डालने का बनाया था वीडियो, सपा प्रमुख समेत कई नेताओं...

यूथ इंडिया, एटा। फर्रुखाबाद लोकसभा की अलीगंज विधानसभा के मतदेय स्थल संख्या 343 प्राथमिक विद्यालय खिरिया पमारान में...

चुनाव से पहले भाजपा को बड़ा झटका, पूर्व विधायक सोनू सिंह ने ज्वाइन की सपा, 2019 में दी थी मेनका गांधी को कड़ी टक्कर

यूथ इंडिया, लखनऊ। छठे चरण की वोटिंग से ठीक पहले भाजपा प्रत्याशी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। बाहुबली...