अगर मन इटली का है तो ये कानून कभी समझ नहीं आएगा, कांग्रेस पर शाह का तंज

Date:

Share post:

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को तीन आपराधिक कानूनों के स्थान पर लाए गए विधेयकों पर चर्चा के दौरान कांग्रेस पार्टी पर जमकर तंज कसा। अमित शाह ने कांग्रेस पार्टी के मन को ‘इटली’ से जोड़ दिया। दरअसल लोकसभा ने औपिनवेशिक काल से चले आ रहे तीन आपराधिक कानूनों के स्थान पर सरकार द्वारा लगाए गए विधेयकों को बुधवार को मंजूरी दे दी। सदन ने लंबी चर्चा और गृहमंत्री अमित शाह के विस्तृत जवाब के बाद भारतीय न्याय संहिता (बीएनएस) विधेयक, 2023, भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता (बीएनएसएस) विधेयक, 2023 और भारतीय साक्ष्य (बीएस) विधेयक, 2023 को ध्वनमित से अपनी स्वीकृति दी। ये तीनों विधेयक भारतीय दंड संहिता (आईपीसी), 1860, दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी),1898 और भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 के स्थान पर लाए गए हैं।

विधेयकों पर चर्चा का जवाब देते हुए शाह ने कहा कि ‘व्यक्ति की स्वतंत्रता, मानवाधिकार और सबके साथ समान व्यवहार’ रूपी तीन सिद्धांत के आधार पर ये प्रस्तावित कानून लाये गए हैं। गृहमंत्री का कहना था कि आपराधिक न्याय प्रणाली में आमूल-चूल बदलाव किया जा रहा है, जो भारत की जनता का हित करने वाले हैं। शाह ने कहा कि इन विधेयकों के माध्यम से सरकार ने तीनों आपराधिक कानूनों को गुलामी की मानसिकता से मुक्त कराया है। उनका कहना था, ”पहले के कानूनों के तहत ब्रिटिश राज की सलामती प्राथमिकता थी, अब मानव सुरक्षा, देश की सुरक्षा को प्राथमिकता दी गई है।”

उन्होंने किसी का नाम लिए बगैर कांग्रेस पर परोक्ष निशाना साधते हुए कहा कि ‘अगर मन इटली का है तो ये कानून कभी समझ नहीं आएगा, लेकिन अगर मन यहां का है तो समझ आ जाएगा।’’ शाह ने कहा, ”इस ऐतिहासिक सदन में करीब 150 साल पुराने तीन कानून, जिनसे हमारी आपराधिक न्याय प्रणाली चलती है, उनमें पहली बार मोदी जी के नेतृत्व में भारतीयता, भारतीय संविधान और भारत की जनता की चिंता करने वाले बहुत आमूल-चूल परिवर्तन लेकर मैं आया हूं।” उन्होंने कहा, ”आतंकवाद की व्याख्या अब तक किसी भी कानून में नहीं थी। पहली बार अब मोदी सरकार आतंकवाद की व्याख्या करने जा रही है।” उन्होंने कहा कि सरकार राजद्रोह को देशद्रोह में बदलने जा रही है।

चर्चा में भाग लेते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद निशिकांत दुबे ने बुधवार को लोकसभा में कहा कि आपराधिक कानूनों से संबंधित विधेयक देश में ‘पुलिस राज’ से मुक्ति और गुलामी की निशानियों को मिटाकर भारतीय परंपरा को स्थापित करने के लिए लाये गए हैं। एआईएमआईएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने आपराधिक कानूनों की जगह सरकार द्वारा लाये गए तीन विधेयकों का विरोध करते हुए आरोप लगाया कि ये तीनों प्रस्तावित कानून ”सरकार के अपराधों को कानूनी शक्ल देने के लिए बनाए जा रहे हैं”।

शिरोमणि अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि इस कानून में पुलिस को अत्यधिक अधिकार दिए गए हैं, जबकि लोगों में पुलिस राज का डर कम से कम होना चाहिए। भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि पहले की सरकारों में इच्छाशक्ति का अभाव था, लेकिन यह सरकार अपनी इच्छाशक्ति की बदौलत ये विधेयक लेकर आई है। उन्होंने कहा कि प्रताड़ना करने वालों को दंड मिलेगा, इसका भी विधेयक में प्रावधान किया गया है। भाजपा सांसद हेमा मालिनी ने सरकार से पशु क्रूरता विरोधी कानून में संशोधन लाकर इसमें कड़े प्रावधान करने का आग्रह किया। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

राज्यसभा चुनाव में भाजपा ने अखिलेश को दी बड़ी मात

क्रॉस वोटिंग से सभी कैंडिडेट जीते, सपा के आलोक रंजन हारे यूथ इंडिया, लखनऊ। यूपी में लोकसभा चुनाव से...

CBI को सौंपी गई इनेलो नेता की हत्या की जांच:देर शाम अंतिम संस्कार; सुपारी किलिंग के शक में तिहाड़ में गैंगस्टरों से पूछताछ

यूथ इंडिया, बहादुरगढ़। हरियाणा में इंडियन नेशनल लोकदल (INLD) के प्रदेश अध्यक्ष नफे सिंह राठी की हत्या की...

पेटीएम बैंक के चेयरमैन विजय शेखर का इस्तीफा:नया बोर्ड बनाया गया, इसमें सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन श्रीनिवासन भी शामिल

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। पेटीएम के फाउंडर विजय शेखर शर्मा ने सोमवार (26 फरवरी) को पेटीएम पेमेंट्स बैंक...

गजल गायक पंकज उधास नहीं रहे:पैंक्रियाज कैंसर से 72 साल की उम्र में निधन, 2006 में पद्मश्री मिला था

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। मशहूर गजल गायक पंकज उधास का आज 72 साल की उम्र में निधन हो...