‘उग्रवाद में 65 फीसदी की कमी आई’, अमित शाह बोले- पूर्वोत्तर और जम्मू कश्मीर में आई शांति

Date:

Share post:

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा है कि किसी भी देश में सीमाओं पर और आंतरिक सुरक्षा बिना चौकन्नी पुलिस के बिना संभव नहीं है। अमित शाह ने नेशनल पुलिस मेमोरियल में दिए अपने संबोधन में ये बात कही। बता दें कि आज पुलिस स्मृति दिवस है और इस मौके पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह नई दिल्ली स्थित नेशनल पुलिस मेमोरियल पहुंचे। 

‘पुलिस की ड्यूटी सबसे चुनौतीपूर्ण’
अपने संबोधन में अमित शाह ने कहा कि मैंने देखा है कि पुलिस की ड्यूटी, देश में सेवारत अन्य लोगों की तुलना में सबसे ज्यादा चुनौतीपूर्ण है। किसी भी मौसम, त्योहार में पुलिस के जवान हमेशा ड्यूटी पर तैनात रहते हैं ताकि कानून व्यवस्था को कायम रखा जा सके। चाहे वो आतंकवाद हो, अपराध हो या फिर बड़ी भीड़ को नियंत्रित करना, पुलिस आम लोगों की सुरक्षा के लिए हमेशा मौजूद रहती है। हमारे देश की पुलिस ने अपने आप को हमेशा साबित किया है। 

उग्रवाद में 65 फीसदी की कमी आई
अमित शाह ने कहा कि पूर्वोत्तर में आतंकवाद, वामपंथी उग्रवाद और अन्य उग्रवादी घटनाओं में 65 फीसदी की कमी आई है। देश में वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित राज्य, पूर्वोत्तर और जम्मू कश्मीर में शांति आ रही है। राष्ट्रीय पुलिस स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए गृह मंत्री ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने आतंकवाद के खिलाफ जीरो टोलरेंस की नीति अपनाई है और सख्त कानून बनाए हैं। पुलिस के आधुनिकीकरण के लिए पुलिस प्रौद्योगिकी मिशन की स्थापना करके दुनिया में सबसे अच्छा आतंकवाद विरोधी बल बनाने की दिशा में भी काम किया गया है।

एनडीआरएफ की तारीफ करते हुए अमित शाह ने कहा कि चाहे कितनी भी बड़ी आपदा क्यों न हो, जब एनडीआरएफ के जवान वहां पहुंचते हैं तो लोगों को विश्वास हो जाता है कि अब कोई समस्या नहीं होगी। शाह ने पुलिस कल्याण के लिए चलाई जा रही योजनाओं का भी जिक्र किया। देश की आजादी के बाद से देश की सेवा करते हुए अब तक 36250 पुलिसकर्मियों ने अपने प्राणों का बलिदान दिया है। अमित शाह ने पुलिस स्मृति दिवस के मौके पर इन सभी बलिदानी पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

बता दें कि हर साल 21 अक्तूबर को पूरे देश में पुलिस स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाता है। साल 1959 में अपनी सीमाओं की रक्षा करते हुए चीन के साथ हुई लड़ाई में जान गंवाने वाले 10 पुलिसकर्मियों के बलिदान की याद में पुलिस स्मृति दिवस का आयोजन किया जाता है। यह दिन पुलिस कर्मियों के समर्पण और कड़ी मेहनत को भी दर्शाता है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

भाजपा नेताओं पर IPS अफसर को खालिस्तानी कहने का आरोप:ममता बनर्जी ने VIDEO शेयर किया; लिखा- BJP के लिए पगड़ी वाला हर व्यक्ति खालिस्तानी

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने संदेशखाली जा रहे भाजपा नेताओं का वीडियो...

विराट-अनुष्का के घर बेटे का जन्म:सोशल मीडिया पोस्ट में बताया- बेटे का नाम अकाय; जन्म के 5 दिन बाद दी जानकारी

यूथ इंडिया, नई दिल्ली। विराट कोहली और अनुष्का शर्मा फिर पेरेंट्स बन गए हैं। 15 फरवरी को अनुष्का...

मेला रामनगरिया में आ रहे भगवान, 21 फरवरी को “सुनो राम कहानी” सुनाएंगे अरुण गोविल

रंग लाया विधायक सदर मेजर सुनील दत्त द्विवेदी का प्रयास, श्री राम के रंग में रंगेंगी रामनगरिया यूथ इंडिया,...

पाण्डेश्वर महादेव मंदिर में सांई बाबा उर्फ चांद मियां की मूर्ति सनातन धर्म का अपमान: महंत ईश्वरदास

यूथ इंडिया संवाददाता, फर्रुखाबाद। रेलवे रोड स्थित प्राचीन महाभारत कालीन पाण्डेश्वर महादेव मंदिर में सांई बाबा की मूर्ति...