टेक्नोलॉजी को अपनाकर भारत को विकसित बनाने में योगदान दें ऑडिटर: सीतारमण

Date:

Share post:

चेन्नई/नई दिल्ली, यूथ इंडिया। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को भारत को एक विकसित देश बनने के लिए अगले 25 साल को महत्वपूर्ण बताते हुए लेखा परीक्षकों (ऑडिटर) से टेक्नोलॉजी को अपनाने और छोटी कंपनियों को वृद्धि के लिए शिक्षित करने का अनुरोध किया।

सीतारमण ने यहां ‘सोसाइटी ऑफ ऑडिटर्स’ की 90वीं वर्षगांठ पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए यह बात कही। वित्त मंत्री ने कहा कि देश ने पिछले 20-25 वर्षों में कई स्तरों पर प्रगति की है। उन्होंने कहा कि विश्व बैंक ने भी कहा है कि भारत ने पिछले दशक में वह हासिल किया है, जो वह 60 वर्षों में हासिल नहीं कर पाया था।

वित्त मंत्री ने कहा कि चार्टर्ड अकाउंटेंट की कार्यप्रणाली में विश्व स्तर पर बहुत बदलाव हो रहे हैं, इसका अहसास इन प्रोफेशनल्स को होने भी लगा है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से टेक्नोलॉजी चलन में आई है, मैं उसकी सराहना करती हूं। सीतारमण ने कहा कि आप में से कई लोग इसे प्रसन्नता से अपना भी रहे हैं। इसकी वजह से अगले जुलाई से चार्टर्ड अकाउंटेंट की परीक्षाएं भी एक अलग प्रारूप में होने जा रही हैं।

निर्मला सीतारमण ने कहा कि अगले 25 वर्ष भारत के पास एक विकसित राष्ट्र बनने की ‘नैरो विंडो’ है। हममें से हरेक को अपने पेशे पर ध्यान केंद्रित करने के साथ देश की बेहतर सेवा करने के तरीकों पर भी ध्यान देना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

प्रदीप मिश्रा बोले-प्रमाण चाहिए तो कुबरेश्वर धाम आ जाएं:राधा रानी पर प्रवचन को लेकर विवाद; संत प्रेमानंद ने कहा था- तुम नर्क में जाओगे

यूथ इंडिया, खंडवा। राधा रानी प्रसंग पर कथावाचक पं. प्रदीप मिश्रा (सीहोर वाले) के प्रवचन पर विवाद छिड़...

RSS चीफ भागवत बोले- काम करें, अहंकार न पालें:चुनाव में मुकाबला जरूरी, लेकिन यह झूठ पर आधारित न हो

नागपुर, यूथ इंडिया एजेंसी। RSS चीफ मोहन भागवत सोमवार 10 जून को नागपुर में संघ के कार्यकर्ता विकास...

सिपाही को कुचलने वालों को पुलिस ने दौड़ाकर मारी गोली:अस्पताल में चल रहा आरोपियों का इलाज; अवैध खनन रोकने गए सिपाही पर चढ़ा दी...

यूथ इंडिया, फर्रुखाबाद/लखनऊ। फर्रुखाबाद में सिपाही की ट्रैक्टर से कुचल कर हत्या करने वालों को पुलिस ने दौड़ाकर...